Skip to main content

Is 'Reservation' really working..???

I am fed off reading news about reservation,in one part of the country some are en-devouring to upgrade it in the meanwhile some other are trying to remove it from roots.

Do you really think its working? In 21st century where everyone is well aware of what they should do to get a healthy and prosper future even if the person belongs to sc/st/obc or general. Quota doesn't tell them that you should save water or should not contribute to air pollution. We all are familiar with the pro and cons of this reservation system.

In my opinion this reservation is responsible for dividing our country on the basis of religion, on the basis of caste, and on the basis of low and high in society.

We don't need any quota to upgrade the condition of are brothers and sisters,we need understanding that our country need all of us to rise and wall together. I am not saying that it was not required, yes it was. But today it has taken a face of termites who are making our country's soul paralyzed.


Comments

Popular posts from this blog

वो सुर्ख़ लाल ग़ुलाब ...|

"ये रहीं ऋतिका की बुक्स और पेंसिल बॉक्स | और कुछ तो नहीं रह गया ?"
"टेलर के यहाँ से जो आप कुर्ता पिछले सप्ताह लाने वाले थे ... "
"अरे यार स्वाति...सो सॉरी मैं कल पक्का... "
"अरे बाबा मैं वो कुर्ता ले आई | डोंट वरि | "
"तुम भी ना स्वाति | ऋतिका बेटा, यहाँ आइये और अपना सामान ले जा कर अंदर रखिये | "
ऋतिका भागते हुए आई, "थैंक यू पापा | दादी दादी देखो मेरा नया पेंसिल बॉक्स... " कहती हुई दादी के कमरे में वापस चली गई |

"जब से माँ आई हैं ये बस उन्ही के कमरे में रहती है न ? "
"हाँ, कम से कम मेरा सर नहीं खाती अब दिन भर, सवाल पूछ-पूछ कर | "
"हाहाहाहा। ... अरे माँ ! आइये बैठिये न | "
"उदय, बेटा  मैंने तुझसे एक गुलाब मंगवाया था वो नहीं लाया तू? "
"माँ मैं बिलकुल भूल गया, कल ले आऊंगा | पक्का | वैसे आपको चाहिए क्यों गुलाब का फूल? पूजा के लिए और भी फूल लगे हैं हमारी बालकनी में | "
"नहीं पूजा के लिए नहीं बालों में लगाने के लिए | " इतना कहकर माँ वापस अपने कमरे में चली गई |

मैं और स्…

An Untold Story

This post has been published by me as a part of the Blog-a-Ton 32; the thirty-second edition of the online marathon of Bloggers; where we decide and we write. To be part of the next edition, visit and start following Blog-a-Ton. The theme for the month is 'An Untold Story' "Jab bachche the to khilone tutne par bhi rote the, aaj dil toot jane par bhi sambhal jaate hain" There is a story within each one of us which we want to share. Today I am going to tell you one of such story,that was actually once lived. It is not a fiction or just a heap of thoughts. It is a real story.. An Untold Storythat needed to be told...
She choked,as she saw a guy,through the glass wall of the restaurant, fairly handsome, accompanied by a woman, fair complexion, sharp features,black eyes, unlike his, wearing a green sari with half tucked hair, his wife, she guessed. They entered the same place and occupied the seat exactly opposite to her. She tried to escape without being noticed but he…

बचपन की पोटरी: किसी की मुस्कुराहटों...!

बात उन दिनों की है जब मैं तीसरी क्लास में थी और भाई दूसरी | हमे स्कूल बस पकड़ने के लिए करीब 200 मीटर चलकर गली से बाहर आना पड़ता था | ज्यादातर मैं और भाई अकेले ही चले जाते थे, पर कोशिश रोज़ होती के पापा हमे छोड़ने आये | कारण था नया नया स्टेट बैंक का एटीएम | याद है पहले हमे उसके अंदर जाने के लिए भी कार्ड स्वाइप करना होता था | जब तक बस नहीं आती हम उसी एटीएम के कमरे में घुस जाते और ऐसे रहते जैसे उन 5-10 मिनट के लिए हम उसके मालिक हों | कभी उसके केमेरे में देखकर अजीब अजीब शकल बनाते और कभी पूरे भारत में एस बी आई एटीएम की लोकेशंस प्रिंट आउट निकाल कर बैग में भर लेते | जब पापा उसमे कार्ड डालते तो राजाओं की तरह उसे पैसे निकालने का आदेश देते | कभी जब खेलने का मन नहीं होता तो हम बस कांच से बहार की दुनिया देखते रहते | जैसे हमारे लिए सब नया हो, जैसे हमे इस दुनिया के हैं ही नहीं | सुबह के सात बजे हमे हमारे छोटे से 5 मिनट के महल में कोई परेशान करने नहीं आता | हाँ महल | वरना ए सी की ठंडी हवा और कहाँ खाने मिलेगी, वो भी मुफ्त !

एक दिन सुबह बहुत ज़ोरों की बारिश हो रही थी | पापा को पिछली शाम बारिश में भीगकर घर…